इस तरीके से आप भी कर सकते है किसी भी हेरोइन को kiss : देखें video

तो ऐसे शूट होते हैं फिल्म के इंटीमेट सीन्स
आज के दौर में फिल्मों में इंटीमेट सीन की बहुत ज्यादा डिमांड होती है । इंटीमेट सीन्स देखकर अक्सर आपके मन में ये सवाल तो जरूर आता होगा कि आखिर एक्टर बेड सीन्स को करते वक्त खुद में काबू कैसे पाते होगे, जो सीन्स आप फिल्मों में देखते वक्त आपके पसीने छूट जाते है, उन्हें वो असानी से कैसे कर लेते है, इतने लोगों के सामने ..वैसे आपके मन में चल रहा ये सवाल बिलकुल गलत नहीं है, क्योंकि ऐसा सवाल अक्सर हम सब के मन में आ ही जाता है । कि कैसे एक्टर्स अपने आप में काबू पाते होगें, और उन्हें इतने लोगों के सामने ये सीन शूट करते वक्त हिचकिचाहट होती है भी या नही । तो चलिए आज हम आपको बताते है एक ऐसे ही किसिंग सीन शूट के बारे में…

नपुंसकता को करें दूर

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि फिल्मों में शूट होने वाले किसिंग सीन नकली होते हैं और असल में हीरो-हीरोइन तो एकदूसरे को किस करते ही नहीं। तो सोचवे वाली बात है कि अगर हीरो-हीरोइन एकदूसरे को किस नहीं करते तो भला फिल्म में उनके लिप-लॉक सींस कैसे और कहां से आते हैं। इसका जवाब मिला है 2 साल पुराने एक साउथ इंडियन फिल्म की शूटिंग के Behind The Camera सीन से। 2014 का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक फिल्म में ऐक्ट्रेस काजल अग्रवाल और ऐक्टर सूर्या को हकीकत में बिना एकदूसरे को किस किए ही फिल्म में किस करते हुए दिखाया गया है।

सुबह के समय बनाएं संबंध तो होंगे ये फायदे!

आपको बता दे कि वीडियो में काजल अग्रवाल को एक हरे रंग की गोल वस्तु को किस करते हुए दिखाया गया हैं और वहीं दूसरी ओर हीरो एक पारदर्शी कांच को चूमते हुए दिख रहा हैं। यह टेक्नोलॉजी का ही कमाल है जिसका प्रयोग करने के बाद काजल और सूर्या फिल्म में ऐसे दिखते है, जैसे दोनों रियल में एक दूसरे को किस कर रहें हो।
और बेड सीन्स करते वक्त एक्टर्स कैसे कम्फर्ट फील करते है। दरअसल कई बार ऐसे सीन्स शूट होते वक्त वही लोग सेट पर रहते है जिनकी उस वक्त जरूरत रहती है। बाकी लोगों को सेट से बाहर कर दिया जाता है। जबकि कुछ एक्टर्स को इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता कि पूरा क्रू मौजूद है। उनका कहना है कि जब आप फिल्म के लिए शूट करने के लिए तैयार हैं तो क्या फर्क पड़ता है कि कितने लोग मौजूद हैं।

शारीरिक संबंध मजबूत बनता है ,जुराब से जाने कैसे

वैसे एक बार इस बारे में महेश भट्ट ने ये भी बताया था कि पहले एक्ट्रैस बड़ी ही टेंशन के साथ सेट पर आती थी जैसे कि वो पता नहीं क्या करने वाली है। वहीं इंटिमेट सीन शूट होते वक्त कई तरह के ट्रीक्स भी काम आती है, जैसे आपको दिखता कुछ और है और होता कुछ और…कहने का मतलब ये है कि कई बार एक्टर एक्ट्रस किस करते हुए हमें नजर आते है, लेकिन रियल में वो किस कर नहीं होते है जब कि हमें ऐसा दिखता है कि वो किस कर रहे है।

महिलाओं के गुप्तांग में खुजली होने के कारण और जाने इसका समाधान

वहीं ये बात भी जरूरी साबित होती है, कि दोनों एक्टर्स के बीच में कैमिस्ट्री कैसी है और दोनों एक दूसरे के साथ कितने कंफर्टेबल हैं, जिससे शूट करते वक्त दोनों को कम हिचकिचाहट महसूस होती है। इस बात का खास ध्यान रखा जाता है कि एक्टर्स से स्मैल अच्छी आ रही है मतलब कि कहीं सांसों की बदबू तो नहीं आ रही, ताकि सामने वाले एक्टर को परेशानी न हो। वहीं नाखून हमेशा साफ होने चाहिए और ऐसा नहीं होना चाहिए कि आपको पसीने से लथपथ हैं। आप इस बात का भी ध्यान रखते हैं कि आप काफी एक्साइटेड न दिखें। काफी सारी चीजें इस पर डिपेंड करती हैं। आपको अपने कंट्रोल में रहना होता है। साथ ही डायरेक्टर की कोशिस यही रहती है कि सीन कम से कम टेक में शूट हो जाए।


loading...